Software Engineer कैसे बनें: Step-by-Step Guide (2020)

भारत में अमेरिका की वजह से पिछले 10 सालों से टेक्नोलॉजी बढ़ती जा रही है और अब सबको पछाड़कर भारत दुनिया का सबसे बड़ा आईटी हब बन चुका है। जिसके बाद अब भारत से बहुत सारे software engineers, सॉफ्टवेयर बना कर विदेश में बेच रहे हैं।

लेकिन क्या आपको पता है, भारत में सबसे ज्यादा सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनी और आईटी हब कर्नाटक के बेंगलुरु शहर है। अगर आपको भी software engineer बनना है, तो इस लेख के जरिए हम आपको software engineer कैसे बनें, इसके बारे step by step पूरी जानकारी detail में देने वाले हैं।

भारत में software engineer बनने के लिए कुछ कोर्स करने पड़ते हैं, जैसे कि BCA MCA या फिर कंप्यूटर साइंस। ऐसे बहुत सारे बड़े कोर्स भारत में सिखाएं जाते हैं, जिनमें से एक को कंप्लीट करके आप आसानी से software engineer बन सकते हैं। इस वजह से नीचे हमने पढ़ाई के बारे में सभी जानकारी दी है।

Software Engineer कैसे बनें?

Software Engineer कैसे बनें

अब software engineer बनने के लिए किस शिक्षा की पढ़ाई करनी पड़ेगी और किस विषय में ज्यादा ध्यान देना पड़ेगा। इसके अलावा आगे जाकर software engineer बनने के लिए क्या करना पड़ेगा इसके बारे में जानकारी step by step दी गई है।

  1. 12वीं पास करें

    दसवीं की परीक्षा होने के बाद software engineer बनने के लिए आपको कॉमर्स या फिर साइंस में से किसी भी एक कोर्स को चुनना होगा। क्योंकि इनमें से किसी भी एक कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आपको कंप्यूटर में बैचलर कोर्स के एडमिशन के लिए काबिल हो जाएंगे। इसके अलावा अगर आप BCA करने वाले हैं, तो आप आईटीआई भी कर सकते हैं।12वीं पास करें

  2. कंप्यूटर में बैचलर डिग्री की पढ़ाई करें

    एक बार जब आप 12वीं पास कर लेते हैं, तो आपको कंप्यूटर में बैचलर डिग्री के लिए पढ़ाई करनी होगी और सॉफ्टवेयर बनने के लिए आपको कंप्यूटर साइंस, बीसीए और बैचलर ऑफ़ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी में से किसी भी एक स्ट्रीम को चुनना होगा।कंप्यूटर में बैचलर डिग्री की पढ़ाई करें

  3. सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखे

    C लैंग्वेज, C++, Java, C Shop और Python इत्यादि कोडिंग लैंग्वेज है और अगर आपको सबसे बेस्ट software engineer बनना है, तो इन सभी लैंग्वेज को सीखना बेहद जरूरी है। बीसीए, एमसीए, कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग और बैचलर ऑफ़ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के कोर्स में इन सभी भाषाओं को पढ़ाया जाता है।सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखे

  4. सॉफ्टवेयर बनाएं

    जब एक बार आप अपने कंप्यूटर में बैचलर डिग्री से शिक्षा हासिल कर लेते हैं, तो उसके बाद आपको अलग-अलग तरह के सॉफ्टवेयर बनाना शुरू करना होगा। क्योंकि इससे आपका सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में पढ़ाई मजबूत हो जाएगी और आगे आपको इससे बहुत जबरदस्त फायदा पहुंचेगा।सॉफ्टवेयर बनाएं

  5. इंटर्नशिप करें

    बैचलर डिग्री पाने के बाद आपको सीधा इंटर्नशिप के लिए अप्लाई कर रहा होगा और किसी भी कंपनी में इंटर्नशिप मिल जाने के बाद वहां पर कुछ समय काम करके आपको सॉफ्टवेयर बनाने के बारे में बहुत ज्यादा अनुभव मिलने वाला है। इससे आपका स्किल्स भी बढ़ेगा और सारी अहम जानकारी आपको सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के लिए मिलेगी।इंटर्नशिप करें

  6. कंप्यूटर में मास्टर डिग्री की पढ़ाई करें

    बैचलर डिग्री पाने के बाद और इंटर्नशिप करने के बाद आपको सीधा नौकरी मिल जाएगी। लेकिन एक जबरदस्त software engineer बनने के लिए और अच्छी पोस्ट के लिए आपको कंप्यूटर एप्लीकेशन में मास्टर डिग्री करनी होगी। इसके लिए आप मास्टर इन कंप्यूटर साइंस और मास्टर इन कंप्यूटर एप्लीकेशन जैसे अन्य कोर्स करके मास्टर डिग्री पा सकते हैं। इंस्ट्रीम में आपको और भी कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के बारे में सीखने को मिलेगा।कंप्यूटर में मास्टर डिग्री की पढ़ाई करें

जब एक बार आप बैचलर डिग्री और मास्टर डिग्री कंप्लीट करने के बाद सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट करना सीख जाते हैं, तो इसके बाद आपके स्किल्स के बदौलत और डिग्री के बदौलत आपको दुनिया के किसी भी जगह पर कंप्यूटर software engineer की नौकरी मिल जाएगी।

यह भी पढ़े:

Write a Comment