5 Best Love Stories In Hindi – प्रेम कहानियां

Love Stories In Hindi: बचपन से हमें कहानी सुनने का बहुत शौक है। लेकिन धीरे-धीरे यह शौक भी बच्चों के मन से खत्म हो रहा है क्योंकि लोग अब कहानी सुनने के बजाय टीवी पर मूवी देखना पसंद करते हैं। लेकिन एक बार अगर आप सच्ची प्रेम कहानी सुनेंगे तब आपको प्रेम का महत्व पता चलेगा।

Love Stories In Hindi

भारत में तो लोग हमेशा से ही प्रेम कहानी सुनना पसंद करते हैं। जैसे कि रोमियो और जूलियट, राम और सीता, राधा और कृष्ण और हीर रांझा। लेकिन आज हम आपको इन से बिल्कुल अलग लेकिन कुछ शानदार प्रेम कहानियां सुनाने वाले हैं।

Love Stories In Hindi

अधूरी कहानी

अधूरी कहानी

मैं और मेरे कुछ दोस्त हमारे गांव के पास से एक गांव में मंदिर के उत्सव में जा रहे थे। तभी मेरे सभी दोस्त उस गांव के शानदार रात को देखते हुए मजे लूट रहे थे। लेकिन मैं अकेला सा हो गया था। कुछ समय बाद मुझे वहां पर एक मंदिर के सामने बैठी खूबसूरत लड़की दिखी। वह इतनी सुंदर थी कि मैं उससे बिना सोचे समझे सबके सामने घूर रहा था और देखते जा रहा था उसने कई बार मुझे देखा। और वहां से उठ कर चली गई।

क्योंकि ना जाने ऐसे कितनी बार लोगों से घूरते होंगे। इस वजह से वह उठ कर चली जाती है। लेकिन शानदार बात यह रही है, जो मेरे दोस्त थे उनमें से एक दोस्त की वह बेटी थी। इस वजह से हमें उस रात उसके घर जाने का मौका मिला हमने वहां पर कुल 30 मिनट बिताए और मेरे दोस्त लड़की के माता-पिता के साथ बातें करने लगे। लेकिन मैं सिर्फ और सिर्फ उसे ही बार-बार देखता रहता था। वह भी उसके माता-पिता के सामने चोरी छुपे।

पता नहीं इस 1 घंटे के अंदर ही मेरे मन में एक बहुत बड़ी प्रेम कहानी बन चुकी थी। लेकिन यह एकतरफा प्यार था। अनजाने में उस लड़की को भी पता चल गया था कि मैं उसके प्यार में पड़ चुका हूं। उसके अगले दिन से मैंने उसका नंबर लेने की बहुत कोशिश की, अपने दोस्तों से पूछा, उसके अलावा उसके दोस्तों से भी उसका नंबर मांगने की कोशिश की। लेकिन सफल नहीं हो सका।

कहीं ना कहीं यह भी डर था कि अगर उसके माता-पिता को पता चल गया तो मेरी तो छुट्टी हो जाएगी। इसके अलावा यह भी डर था कि वह मुझसे प्यार करेगी या नहीं। क्योंकि वह इतनी खूबसूरत लड़की थी। तभी मेरे दिमाग में एक आइडिया आया मैंने हर सोशल मीडिया साइट पर उस लड़की के नाम से प्रोफाइल चेक करना शुरू कर दिया। तभी मुझे पता चला कि वह लड़की इतनी भोली है कि उसने एक भी सोशल मीडिया अकाउंट पर अकाउंट नहीं बनाया है। वह सिर्फ पढ़ती रहती है।

यह मेरे लिए अफसोस की बात थी। लेकिन इसमें भी मुझे पता चल गया था कि यह लड़की बहुत ही अच्छे गुणों वाली है। मैं उसके प्रेम में इतना गिर चुका था कि मुझे उसे पाने के लिए कुछ ना कुछ करना था। इस वजह से मैंने खुद ही उसके नाम से फेसबुक पर एक फेक अकाउंट बना लिया बिना सोचे समझे कि आगे क्या हो सकता है। और ऐसा ही हुआ कुछ दोस्तों ने उस लड़की को फेक अकाउंट के बारे में बताया और वह लड़की सदमे में चली गई।

क्योंकि उसे ऐसा कुछ पसंद नहीं था। और 2 दिन लगातार रोने के बाद उस लड़की के माता-पिता पुलिस स्टेशन में कंप्लेंट करने के लिए चले गए थे। क्योंकि उन्हें लगा कि कोई लड़का उनकी बेटी को बदनाम कर रहा है। लेकिन तभी मुझे इस बात की खबर हो गई और मैंने उसके पिता को कॉल किया और बताया कि गलती से मैंने आपकी बेटी का फेक अकाउंट बनाया है। उन्होंने मुझसे पूछा गलती से ऐसे कैसे हो सकता है?

तो मैंने उन्हें बताया कि मेरी एक दोस्त का नाम भी उसी के नाम से है। इस वजह से ऐसा हुआ है। और मैं बच गया क्योंकि मैंने अभी तक उसका प्रोफाइल पिक्चर फेक अकाउंट में नहीं डाला था। अगर वह लोग पुलिस कंप्लेंट करते तो मैं बुरा फंस सकता था। और तब से मैंने उसे पाने की कोशिश छोड़ दी। लेकिन अंदर से मैं उससे आज भी प्रेम करता रहता हूं।

पागल दिल

पागल दिल

बॉलीवुड की फिल्मों की तरह ही गणेश और शालिनी की कहानी है। इस कहानी के अंदर बहुत सारे मजेदार और हैरान करने वाले ट्विस्ट है तो चलिए जानते हैं उन दिनों में इन दोनों प्रेमियों के हाल क्या थे।

गणेश पर शालिनी एक दूसरे से बहुत प्रेम करते थे। लेकिन अफसोस की बात यह थी यह बात वह अपने माता-पिता से नहीं कह सकते थे। इसके पीछे बहुत सारे कारण हैं। हड़बड़ाहट में गणेश एमबीए करने की सोचता है और एमबीए करने के बाद उसे शादी करने की बहुत जल्दी थी।

अब तक सब कुछ ठीक चल रहा था और एक बड़े से इंस्टिट्यूट में गणेश को एमबीए का एडमिशन भी मिल गया था। लेकिन तभी दूसरी तरफ शालिनी के ऊपर भी शादी का बहुत दबाव था और उनके घर वाले उन्हीं के बिरादरी के लड़की के साथ उसकी शादी करना चाहते थे।

लेकिन गणेश उनके बिरादरी से बाहर था। कुछ दिनों के बाद शालिनी की शादी तय हो जाती है। यह बात सुनकर शालिनी और गणेश दोनों घबरा जाते हैं और बाद में गणेश भी एमबीए करने की इच्छा को मारकर कॉल सेंटर में काम करने लगता है।

शालिनी के शादी के लिए कुछ ही दिन बचे थे। और तब तक इन दोनों के हालात बेहद खराब हो चुके थे। फिल्मों की तरह दोनों मंदिर जाते हैं और भगवान से प्रार्थना करते हैं कि किसी भी तरह शादी टूट जाए और इन दोनों की शादी हो जाए।

इस वजह से भगवान को ₹51 चढ़ाते हैं। लेकिन इनको क्या पता आज फिर कि इस महंगाई के जमाने में भगवान भी ₹51 से कैसे मान जाएंगे। शादी का दिन आ जाता है। गणेश किसी भी तरह से चुप चुप के शालिनी के कमरे में चला जाता है और उसे गले लगता है।

वहां पर शालिनी भी गणेश को देखकर खुश हो जाती है और गणेश शालिनी को कहता है कि किसी भी तरह से हमें इस शादी को तोड़ना होगा। इस वजह से जब तुम शादी करने के लिए मंडप पर आओगे तो मैं भी वहां पर रहूंगा। तुम मुझे सबके सामने गले लगा लेना। इसे देखकर शादी टूट जाएगी।

यह कहकर गणेश मंडप के तरफ चला जाता है। आखिरकार वह घड़ी आ जाती है और मन ही मन गणेश को यह पता होता है कि अगर शालिनी उससे सबके सामने गले लगा लेती है तो उसे पीठा भी जा सकता है। लेकिन उसके मन में शादी टूटने का भी खुशी थी।

शालिनी आती है, लेकिन गणेश को गले लगाए बिना मंडप पर बैठ जाती है और उसकी शादी हो जाती है। यह देखकर गणेश गुस्से से बाहर चला जाता है और उदास आत्महत्या करने की कोशिश करता है। लेकिन उससे भी लगता है कि एक धोखेबाज लड़की के खातिर आत्महत्या करने के बजाय यहां से अपनी और एक नई जिंदगी शुरू करना ही बेहतर है।

अजीब सी पहेली

अजीब सी पहेली

एक 25 साल का युवक हमेशा परेशान रहता था। उसके मन में प्यार को लेकर कुछ ना कुछ चलता रहता था। उसे अभी तक प्यार क्या है, सच्चा प्यार क्या होता है, इसके बारे में कुछ जानकारी नहीं थी।

दादा जी उस लड़के के बेहद करीब थे। इस वजह से प्यार को और जीवन में प्यार की अहमियत क्या है, इसके बारे में जाने के लिए वह अपने दादाजी के पास चला गया। उस युवक ने अपने दादाजी से पूछा कि “दादा जी ऐसा क्यों होता है कि लोग प्यार किसी और से करते हैं और शादी किसी और से?”

इस प्रश्न को सुनकर दादाजी ने हंसते हुए कहा कि “मैं तुम्हें एक काम देता हूं और तुम्हें वह काम पूरा करना होगा”। दादाजी ने उस लड़के से कहा के “तुम हमारे खेत में जाओ और वहां से सबसे पका हुआ और स्वादिष्ट दिखने वाला आम को तोड़कर मेरे पास लाओ। लेकिन शर्त यह है कि जब भी तुम किसी भी आम के पेड़ को एक बार पार कर लोगे तो दोबारा उस पेड़ के पास नहीं आ सकते”।

इसे सुनकर वह लड़का खेत के पास चला गया और वहां पर बहुत सारे आम के पेड़ थे। खेत शुरू होने पर ही उसे एक बहुत बड़ा आम का पेड़ दिखा और वहां पर एक स्वादिष्ट पका हुआ आम उसको दिख गया। लेकिन उसने सोचा कि आगे इससे भी बड़ा और स्वादिष्ट पका हुआ आम हो सकता है।

इस वजह से वह आगे निकल पड़ा वहां पर भी उसे वैसा ही आम दिखाई दिया। लेकिन वह आगे निकल पड़ा और अंत में जाकर आखिरी पेड़ के पास चला गया और हैरानी की बात यह रही कि उस पेड़ पर सभी कच्चे आम थे और शर्त के अनुसार उसे सबसे स्वादिष्ट और पका हुआ आम लाना था।

इस वजह से वह खाली हाथी वापस चला गया। फिर दादाजी ने उससे कहा कि “जो गलती तुमने आम के खेत में की है, वही गलती लोग असल जिंदगी में करते हैं। जब लोग किसी से प्यार करते हैं तो हमेशा सोचते हैं कि आगे हमें इससे भी अच्छी लड़की या लड़का मिल सकता है। इस वजह से हम जो अब मिला है उसे रिस्पेक्ट ना करते हुए आगे बढ़ जाते हैं।

और आगे हमें ऐसे जीवन साथी से शादी करनी पड़ती है, जिसे हम प्यार नहीं करते हैं। इस वजह से जब भी हमें कुछ भी जिंदगी में मिलता है, उसे हमेशा रिस्पेक्ट करना चाहिए।

Short Love Stories In Hindi

मेरी प्यारी बिल्ली

मेरी प्यारी बिल्ली

कर्नाटक के जंगलों के पास एक छोटा सा गांव था। वहां पर राहुल नाम का लड़का था। उसके घर में एक बिल्ली और एक कुत्ता था। लेकिन उसे जानवर से उतना लगाव नहीं था। इस वजह से वह हर दिन उन्हें नजरअंदाज करता था। गर्मियों के दिन घर में बिजली ना होने के कारण हर रात को राहुल घर के बाहर सोया करता था। घर जंगल के पास था। इसलिए वहां पर जंगली जानवरों का भी खतरा था।

एक दिन राहुल बाहर सोया हुआ था और उस घर की बिल्ली करीब 3 बजे रात को अपना पंजा मार के जगह दी थी। लेकिन राहुल इससे परेशान होकर उस बिल्ली को लात मार कर वापस सो जाता था। एक बार हो, गया दो बार हो गया, कई बार बिल्ली ने राहुल को नाखून लगाकर उठाने की कोशिश की, लेकिन राहुल बार-बार गुस्से में आकर उस बिल्ली को मार रहा था।

लेकिन आखरी बार जब राहुल उठा तो उसकी नजर पैर के पास एक खतरनाक जंगली सांप के ऊपर पड़ी। तभी उसे पता चला कि बिल्ली उसे साफ से बचाना चाहती थी। इस वजह से वह उठा रही थी। लेकिन अफसोस की बात यह रही कि उस सांप ने बिल्ली को काट लिया था। क्योंकि बिल्ली बार-बार उस साफ को पंजा मार कर राहुल से दूर कर रही थीं।

पति और पत्नी की प्रेम कहानी

पति और पत्नी की प्रेम कहानी

महेश और उसकी बीवी शर्मिला ने कुछ ही दिन पहले शादी कर ली थी। वह दोनों बेहद गरीब थे। शर्मिला बेहद सुंदर थी और अपने बालों के प्रति उसे बेहद लगाव था। उसके बाल घने और सुंदर दिखते थे।

एक दिन शर्मिला के बाल के क्लिप टूट गया और इससे परेशान होकर नया हेयर क्लिप लाने के लिए अपने पति से कुछ पैसे मांगे। महेश ने कहा कि “अभी फिलहाल तो मेरे पास मेरी टूटी घड़ी ठीक करने के लिए पैसे नहीं है, मैं क्लिप कहां से ला सकता हूं”।

शर्मिला बहुत परेशान थी। लेकिन पति ने उसे समझा बुझा कर शांत करा दिया। जब पति उस दिन शाम को ऑफिस से घर आ रहा था तो उसने देखा कि शर्मिला ने अपने बाल काट दिए थे। महेश ने शर्मिला से पूछा ऐसा तुमने क्यों किया? तुम्हें तो तुम्हारे बाल बहुत प्यारे थे।

शर्मिला ने कहा सलून में जाकर मैंने अपने बार बेच दिए और उन पैसों से मैंने तुम्हारे लिए नई घड़ी खरीद ली है। यह सुनकर महेश बहुत उदास हो गया और उसने भी कहा कि मैंने भी अपनी पुरानी गाड़ी बेच दी है और उन पैसों से मैंने तुम्हारे लिए क्लिप खरीदा है।

यह सुनकर दोनों एक दूसरे से गले लगा कर रोने लगे। प्यार के लिए हमें कुछ ना कुछ सैक्रिफाइस करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें:

Write a Comment