क्या अपने Global Warming के बारे में सुना है, अगर नहीं तो आज हम इस आर्टिकल में आपको ग्लोबल वार्मिंग क्या है, इसके बारे में पूरी जानकारी देने वाले हैं। इसके अलावा Global Warming  के मुख्य कारण, प्रभाव और Global Warming के उपाय भी बताने वाले हैं।

क्या आपको पता है, आज से 1,000 साल पहले यह धरती सबसे सुंदर थी और सभी जगह हरियाली ही हरियाली थी। क्योंकि उस समय लोगों की तादाद भी बहुत कम थी और 1,000 साल पहले इस धरती पर ना तो अब जैसा शहर था और ना तो कोई मैन्युफैक्चर कंपनी। जिस वजह से उस वक्त धरती पर ग्लोबल वार्मिंग का खतरा नहीं था। 

इसके अलावा उस समय में गाड़ी अभी नहीं थी, जिस वजह से प्रदूषण का खतरा भी नहीं था। लेकिन अब बढ़ते जनसंख्या के कारण यह धरती तेजी से विनाश की ओर बढ़ रही है। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि बढ़ती जनसंख्या की वजह से लोग अब जंगलों के पेड़ों को काट रहे हैं, जिससे जंगलों का सफाया हो रहा है और तेजी से शहर बन रहे हैं और इंडस्ट्रियल एरिया भी बढ़ रहा है, जिस वजह से प्रदूषण का स्तर पहले से भी ज्यादा हो गया है।

इस धरती का तापमान भी पहले से बहुत ज्यादा हो गया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि आगे आने वाले समय में इस धरती का तापमान और भी बढ़ेगा, जिससे लोगों के जीवन में बहुत बड़े प्रभाव पड़ने वाले हैं। जैसे कि बारिश के समय में बारिश का ना होना, ठंड के समय में ठंड का ना होना, इसके अलावा बाढ़ और सुनामि में जैसे हालात भी आगे बहुत बनेंगे, जिस वजह से लोगों का इस धरती पर रहना लगभग नामुमकिन सा हो जाएगा।

ग्लोबल वार्मिंग क्या है

जिसे आमतौर पर climate change भी कहा जाता है, इसके बारे में चर्चा करेंगे, इसके अलावा Global Warming के कुछ बड़े कारणों के बारे में भी जानेंगे और Global Warming को रोकने के लिए कौन से उपाय मौजूद है और क्या-क्या करना चाहिए इसके बारे में भी चर्चा करेंगे।

ग्लोबल वार्मिंग क्या है?

पृथ्वी का लगातार सतह का गर्म होने को हम Global Warming कहते हैं। पिछले कुछ दशकों से कुछ कारणों की वजह से इस पृथ्वी के जमीनी हिस्से और महासागर गर्म होते जा रहे हैं। जंगल के पेड़ पौधों को काटना, गाड़ियों से और कारखानों से बनते धुवे के प्रदूषण और अन्य कारणों से धरती पर होने वाले प्रक्रिया को ग्लोबल वार्मिंग कहते हैं। Global Warming को अंग्रेजी में climate change के नाम से भी जानते हैं। 

आम भाषा में Global Warming का मतलब यह है कि ग्रीनहाउस की वजह से धरती का सतह में गर्मी का तापमान और बढ़ जाता है और जब लोग पेड़ काटते हैं या फिर अन्य प्रदूषित काम करते हैं, जिससे carbon dioxide निकलता है। इसके बाद ग्रीनहाउस पृथ्वी की गर्मी को बाहर जाने से रोकता है, जिससे यह गर्मी तापमान को बढ़ाता है।

जब हम तेल, कोयला, प्राकृतिक गैस जैसे fossil fuels को जलाते हैं। इससे carbon dioxide बहुत तेजी से उत्पन्न होता है और इससे एक जलवायु में चादर की तरह परत बन जाती है, जिससे इस पृथ्वी में जो गर्मी पैदा होती है। उसे यह चादर बाहर जाने से रोक देता है। इससे बार-बार यह गर्मी बढ़ कर Global Warming का रूप ले लेती है।

पिछली शताब्दी में पृथ्वी का औसत तापमान 1.4 डिग्री फारेनहाइट तक बढ़ गया है और अगले में 11.5 डिग्री फारेनहाइट तक बढ़ने की उम्मीद है। आपको बता दें कि इस वजह से हिमालय भी बहुत तेजी से पिघल रहा है और आगे आने वाले समय में पृथ्वी पर जनजीवन को बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

Global Warming के मुख्य कारण

Global Warming के मुख्य कारण

  • Global Warming का सबसे बड़ा कारण CO2 है, जिसे हम carbon dioxide के नाम से भी जानते हैं।
  • जीवाश्म इंधन जैसे कोयला, गैस को जब हम बिजली तैयार करने के लिए उपयोग करते हैं, तब बहुत बड़े प्रमाण में धरती पर carbon dioxide उत्पन्न होता है, जिससे धरती की सारी गर्मी यहीं पर कैद हो जाती है और धीरे-धीरे Global Warming बढ़ने लगता है।
  • सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि फ्रिज और एयर कंडीशनर का इस्तेमाल करने से भी Global Warming  का खतरा होता है और यह सबसे बड़ी कारण भी है। मतलब फ्रीजर, एयर कंडीशनर का इस्तेमाल करने से क्लोरोफ्लोरोकार्बन गैस उत्पन्न होती है। इस वजह से हमें किसी भी कूलिंग मशीन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • मैन्यूफैक्चर कंपनियां और रासायनिक कंपनियां जिनसे बहुत बड़ी तादाद में गैस से बाहर निकलती है, उमस भी Global Warming जैसे हालात बनते हैं। इस वजह से हमें कारखानों से आने वाले धुवे को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए।
  • और एक बात तो मैं आपको बताना ही भूल गया और वह यह है कि भारत में तो जनसंख्या 150 करोड़ के पार जल्द पहुंच जाएगी
  • क्योंकि इतनी तेजी से भारत में जनसंख्या बढ़ रही है और बढ़ती जनसंख्या के कारण आने वाले समय में लोग जंगल काटेंगे, जिस वजह से बहुत सारे पेड़ पौधे काटे जाएंगे। जिससे Global Warming का खतरा बहुत बढ़ने वाला है।
  • पेड़ काटना, गाड़ी के धुवे और कारखानों से आने वाले प्रदूषित धुवे के कारण Global Warming का खतरा बहुत बढ़ गया है।
  • और इन सभी से सबसे बड़ा कारण है मांस का बहुत ज्यादा सेवन करना और जानवरों को मारना। 2019 में आई एक खबर के अनुसार मांस का बहुत ज्यादा सेवन करने से और गाय जैसे जानवरों को मारने से भी climate change का खतरा बहुत बढ़ जाता है, जिस वजह से लोगों को मांस खाने के बजाय अब शाकाहारी भोजन का सेवन करना चाहिए।

Global Warming के प्रभाव

Global Warming के प्रभाव

  • बढ़ते ग्लोबल वार्मिंग की वजह से इस धरती से कई सारे जीवो और पशुओं की प्रजाति विलुप्त हो रही है और आगे आने वाले समय में बहुत सारे जीवो की प्रजाति विलुप्त होने वाली है।
  • तापमान वृद्धि भी Global Warming का सबसे बड़ा प्रभाव है। एक आंकड़े के अनुसार 2050 तक इस धरती का तापमान 1.5 से 5.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाएगा, जिससे अगले 10,000 साल में इस धरती पर जीवन संभव नहीं है। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि वर्तमान में मनुष्य कितना बड़ा पाप कर रहा है।
  • आने वाले पीड़ितों को सुरक्षित रखने के लिए और हमारे भविष्य को अच्छा बनाने के लिए हमें अभी से Global Warming को रोकने के लिए काम करने चाहिए। इसके अलावा पानी के स्तर में भी बहुत बड़ी वृद्धि हो सकती है। इसका भी अनुमान लगाया जा रहा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि 50 वर्ष के बाद अगर ऐसे ही धरती का तापमान बढ़ता गया तो समुद्र का स्तर 1.5 मीटर तक बढ़ सकता है।
  • लेकिन सबसे बड़ी और हैरान करने वाली बात यह है कि मानव स्वास्थ्य पर भी इसका बहुत बड़ा प्रभाव पड़ने वाला है, जैसे कि मनुष्य को कई सारे बीमारियों का सामना भी करना पड़ेगा जैसे कि फिलिरियासिस और मलेरिया आदि।

Global Warming के उपाय

Global Warming के उपाय

  • Carbon dioxide की बढ़ती मात्रा की वजह से ही Global Warming से हम जूझ रहे हैं। लेकिन अगर बहुत बड़े मात्रा में इस धरती के सारे देश मिलकर पेड़ पौधे लगाने की मुहिम पर लग जाते हैं, तो कुछ ही साल में हम Global Warming जैसे बड़े आपदा से मुक्त हो जाएंगे।
  • भारत में तो भारत सरकार यह काम नहीं कर रही है, लेकिन भारत में कुछ ऐसे लोग मौजूद हैं, जो कि लोगों की सहायता से पेड़ लगाने की मुहिम चला रहे हैं।
  • जैसे कि सद्गुरु जिन्होंने 240+ करोड़ पेड़ लगाने का लक्ष्य बनाया हुआ है और बहुत ही जल्द यह पूरा भी हो जाएगा।
  • अब से कंपैक्ट फ्लोरोसेंट लाइट बल्ब का इस्तेमाल करना शुरू कर दे। क्योंकि आम बल्ब से 300lbs carbon dioxide उत्पन्न होता है।
  • वैज्ञानिकों के अनुसार ऑर्गेनिक खाद पदार्थों के उपयोग को बढ़ावा देना Global Warming को जड़ से खत्म करता है। इस वजह से हम सभी लोगों को ऑर्गेनिक खाद पदार्थ को बढ़ावा देना चाहिए।
  • वाहन के बारे में तो आपको पता ही होगा कि वाहन की वजह से ही प्रदूषण बहुत बढ़ जाता है, जिस वजह से Global Warming होता है। लेकिन अगर हम साइकल और अन्य सार्वजनिक वाहन का इस्तेमाल करते हैं, तो इससे Global Warming में बहुत बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है। इसके अलावा हमें सौर ऊर्जा और पवन ऊर्जा जैसे वैकल्पिक ऊर्जा स्त्रोत को उपयोग करना चाहिए।

हम सबको मिलकर हमारे देश के या फिर राज्य सरकार के ऊपर यह दबाव डालना होगा कि उन्हें इस धरती के लिए, इस मिट्टी के लिए, हमारे आगे आने वाले पीढ़ियों के लिए कुछ करना चाहिए, यानी कि अब से कम से कम प्रदूषण करना होगा और ज्यादा से ज्यादा पेड़ पौधे उगाने होंगे, ऐसा कुछ सरकार से पॉलिसी की मांग खत्म होगी, तभी यह मुहिम आगे बढ़ेगी। आशा करता हूं कि आप को हमारे यह एक जरूर पसंद आया होगा।

इन्हें भी पढ़े:

Share.

Leave A Reply